Wednesday, 21/2/2018 | 6:24 PM
Khabar Upto Date
Получение Вашего В Сети Благополучие Администрация Степень
Top 8 Lessons About Proofreading Services Online To Learn Before You Hit 30 proofreading essay com
Opinions of UK Custom Essay Agency for Clients
Review article of Custom Writing Company for College Students

अलर्ट! वायु प्रदूषण से ब्रेन हो सकता है डैमेज, इन खतरों से रहें बचकर

l_air-pollution-1485310349

वायु प्रदूषण को हल्के में न लें। इससे आपका दिमाग क्षतिग्रस्त हो सकता है। एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। अभी तक माना जाता था कि वायु प्रदूषण के कारण व्यक्ति को दिल और सांस संबंधी बीमारियों का ही खतरा रहता है, लेकिन लेंकेस्टर यूनीवर्सिटी के नए शोध ने इससे होने वाली अन्य समस्याओं की ओर भी ध्यान दिलाया है।

रिसर्चरों ने बताया कि दिमाग में नैनो चुम्बक होने की संभावना बनती है। लेंकेस्टर यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर व शोधकर्ता दल की सदस्य बारबरा माहेर ने कहा कि दिमाग के नमूने में हमें वायु प्रदूषकों के लाखों कण मिले।

एक मिलिग्राम ब्रेन टिश्यू में लाखों मैग्रेटिक प्रदूषक कण मिले हैं, जिनसे दिमाग को खतरा हो सकता है। इससे दिमाग के क्षतिग्रस्त होने की प्रबल संभावना है। इंसानी दिमाग में पाए गए ज्यादातर मैग्नेटाइट जो चुंबकीय आयरन ऑक्साइड का कंपाउंड होते हैं, ओद्योगिक वायु प्रदूषण की देन हैं।

प्रोफेसर माहेर के अनुसार सांस के माध्यम से शरीर में पहुंचने वाले प्रदूषण के कणों का बड़ा हिस्सा सांस नली में जाता है, लेकिन इसका एक छोटा हिस्सा नर्वस सिस्टम से होते हुए दिमाग में भी पहुंचता है।

उन्होंने कहा कि शोध के दौरान पता चला कि मैग्रेटिक प्रदूषक कण दिमाग में पहुंचने वाली आवाजों और संकेतों को रोक सकते हैं।


प्रदूषण के खिलाफ जंग

हवा को साफ करने के लिए वैज्ञानिक एक ऐसा सिल्वर कैटलिस्ट बना रहे हैं, जो विषैली कार्बन मोनेाऑक्साइड और अन्य हानिकारक पदार्थों को प्रदूषण रहित तत्व में बदल देगा।

About

POST YOUR COMMENTS

Your email address will not be published. Required fields are marked *